किशोर कुमार का जीवन परिचय

Kishore Kumar Biography In Hindi

किशोर कुमार का जीवन परिचय
किशोर कुमार का जीवन परिचय

किशोर कुमार का जीवन परिचय -किशोर कुमार का जन्म मध्य प्रदेश के खंडवा में 4 अगस्त 1929 को एक बंगाली परिवार में हुआ था । जन्म के बाद उनका नाम आभास कुमार गांगुली रखा गया । उनके पिता कुंजालाल गांगुली एक वकील थे । उनकी मां गौरी देवी बंगाल के एक प्रसिद्ध परिवार से थीं । 

कुंजालाल गांगुली को कामविशेर गोखले परिवार ने बुलाया था ।  कामविशेर गोखले के परिवार ने कुंजाला गांगुली को अपने वकील के रूप में काम करने के लिए खंडवा बुलाया । 

किशोर कुमार चार भाई-बहनों में सबसे छोटे थे । उनके बड़े भाई अशोक कुमार थे, उसके बाद सती देवी… और अनूप कुमार थे । किशोर कुमार तब बहुत छोटे थे जब उनके बड़े भाई यानी दादामोनी पहले ही अभिनेता बन चुके थे ।

 उनके बारे में एक दिलचस्प कहानी है कि…किशोर कुमार की आवाज हमेशा युवावस्था में ही टूट जाती थी । उसकी कर्कश आवाज थी । लेकिन एक दिन उसने अपनी उंगली काट दी और खून बहने लगा । उन दिनों दर्द निवारक दवाएं बहुत कमजोर थीं ।

 जब भी दवाई लगाई जाती थी तो वह जोर-जोर से चिल्लाने लगता था । जोर-जोर से रोने से उसकी आवाज साफ हो गई । उसकी आवाज अब कठोर नहीं थी । उनकी सुरीली आवाज से हम सभी वाकिफ हैं ।

किशोर कुमार अपने बड़े भाई के जैसा बनना चाहते थे .. ..और गायक बनना चाहते थे । वह बचपन से के एल सहगल से प्रेरित थे । अशोक कुमार चाहते थे कि उनका छोटा भाई .. किशोर कुमार एक अभिनेता बनें । तब तक उनका नाम बदल दिया गया था आभास से किशोर कुमार । 

फिल्म ‘जिद्दी’ में हेमचंद्र प्रकाश ने किशोर कुमार को… गाने का मौका दिया । गाना था “मरने की दुआई क्यूं मांगु”। “मैं मौत के लिए प्रार्थना क्यों करूं?” था इस बात को लेकर लंबे समय से भ्रम था.. 

क्या किशोर कुमार अभिनेता या निर्देशक थे ? क्या वे गायक या गीतकार थे ? किशोर कुमार को अभिनय में कोई दिलचस्पी नहीं थी । लेकिन उनके बड़े भाई अशोक कुमार ने उन पर अभिनय के लिए दबाव डाला । एक समय था जब महान गायक मोहम्मद रफी..किशोर कुमार के लिए पार्श्व गायन किया था । 

“जिंदगी, तुम्हारी कहानी अजीब है ।” किशोर कुमार ने दिग्गज निर्देशकों की फिल्मों में काम किया । ..बिमल रॉय और हृषिकेश मुखर्जी की.. ‘नौकरी’ और ‘मुसाफिर’ की तरह । इन फिल्मों के बाद ‘नया आन’ जैसी फिल्में आईं । दाग ‘, ‘भागम भाग’, ‘भाई-भाई’, ‘आशा’ और प्रसिद्ध ‘चलती का नाम गाड़ी’। उन्होंने इन फिल्मों में अभिनय भी किया और गाया भी गाया । 

 ऐसे कई संगीतकार थे जो किशोर कुमार को एक उचित गायक नहीं मानते थे । उन्होंने कहा कि वह नाटकीय थे और हमेशा अभिनय करते रहे । एक जमाना था जब तलत महमूद, मुकेश, मो. रफ़ी, मन्ना डे प्रसिद्ध गायक थे । 

किशोर कुमार का जीवन परिचय

किशोर कुमार की फिल्म ‘हाफ टिकट’ को लोग याद करते हैं । इस फिल्म में उन्होंने “आके सीधी लागी” गाना गाया था जिसमें उन्होंने पुरुष और महिला दोनों हिस्सों को गाया था । “खंजर ने मुझे सीधे मेरे दिल में मारा।” “ओ मेरी जान।” “खंजर ने मुझे सीधे मेरे दिल में मारा।” “ओ मेरी जान।” “तेरी तेज आँखें।” “तुम्हारी आँखों ने मेरा दिल चुरा लिया है।” 

महान संगीतकार एस डी बर्मन ने किशोर कुमार के करियर में अहम भूमिका निभाई । अपनी पहली मुलाकात में किशोर कुमार ने दादा बर्मन के लिए दादा बर्मन की आवाज में एक गाना गाया था । उसे सुखद आश्चर्य हुआ । उन्हें एसडी बर्मन और देव आनंद का कॉम्बिनेशन मिला । गाइड का गाना “गाता रहे मेरा दिल” सबके मन को भा गया 

उसके बाद किशोर दा ने फैसला किया कि वह सिर्फ गाएंगे । उन्होंने कुछ समय के लिए अभिनय करना बंद कर दिया । फिल्म ‘आराधना‘ ने राजेश खन्ना को सुपर स्टार बना दिया और..किशोर कुमार ने अपनी गायकी से दर्शकों का दिल जीत लिया. 

उसके बाद राजेश खन्ना हों या अमिताभ बच्चन.. या ऋषि कपूर, किशोर कुमार ने सभी सुपर स्टार्स के लिए गाना गाया । आरडी बर्मन हो या लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल.. बप्पी लाहिरी या कल्याणजी-आनंदजी…. ये सभी उनके प्रशंसक थे किशोर कुमार ने हर फिल्म के ज्यादातर गाने गाए ।

किशोर कुमार ने ‘दूर वादियों में कहीं‘, ‘चलती का नाम जिंदगी‘, ‘दूर का राही‘, ‘सबाश डैडी’ जैसी फिल्मों का निर्देशन भी किया । कुछ फिल्में पूरी हो गईं तो कुछ अधूरी रह गईं । फिल्म ‘दूर गगन की छाओं में’ को कौन भूल सकता है?

 किशोर कुमार एक खुशमिजाज इन्सान और खुशमिजाज कलाकार थे… लेकिन साथ ही वे बहुत परिपक्व भी थे । उनकी छठी इंद्री बहुत अच्छी थी ।ऐसा लगा मानो कला ने मंच पर मानव रूप धारण कर लिया हो ।’ जब दिग्गज फिल्म निर्माता सत्यजीत रे ‘पाथेर पांचाली’ बना रहे थे..

 उन्हें कुछ पैसों की जरूरत थी. किशोर कुमार ने उन्हें 5000 रुपये दिए । सत्यजीत रे ने फिल्म पूरी होने के बाद पैसे लौटा दिए । लेकिन, किशोर कुमार उन्हें हमेशा याद दिलाते रहते थे कि उन्होंने उनकी मदद की थी.

 किशोर कुमार ने ‘पाथेर पांचाली’ की मेकिंग की थी । दुर्भाग्य से वीडियो कैसेट गायब हो गया । लता मंगेशकर और आशा भोंसले के साथ किशोर कुमार के युगल गीत सभी को पसंद आए । चाहे तेज हो या धीमी संख्या..किशोर कुमार की आवाज ने हर जगह राज किया। 

अगर हम किशोर कुमार की निजी जिंदगी पर नजर डालें तो हम देखेंगे कि उनकी शादी रूमा गुहाठाकुर्ता से बहुत कम उम्र में हुई थी । उनका एक बेटा था जिसका नाम उन्होंने अमित कुमार रखा । शादी लंबे समय तक नहीं चली । शादी केवल 8-9 साल तक चली । उनकी दूसरी शादी खूबसूरत..और जिंदादिल एक्ट्रेस मधुबाला से हुई थी. 

माना जाता है कि मधुबाला उन दिनों दिलीप कुमार से प्यार करती थीं । जब वे टूट गए तो उन्हें रोने के लिए कंधे की जरूरत थी । किशोर कुमार उस समय तलाक के दौर से गुजर रहे थे । इसलिए उन्हें एक-दूसरे का साथ मिला और उन्होंने शादी कर ली । 

किशोर कुमार को चेतावनी दी गई थी कि मधुबाला को दिल की समस्या है .. और शायद अधिक समय तक जीवित न रहे । मधुबाला के पिता ने उन्हें शादी के बाद इलाज करने के लिए कहा.. उसका इलाज हो गया । लेकिन किशोर दा ने कहा कि वह पहले उससे शादी करेगा और फिर उसे इलाज के लिए विदेश ले जाएगा । 

किशोर दा को पता था कि चीजें ठीक नहीं हैं… जैसे मधुबाला की हालत बिगड़ती गई । समय बीतता गया और एक दिन मधुबाला की मृत्यु हो गई । किशोर कुमार अकेले थे और उस वक्त उनकी जिंदगी में एक्ट्रेस योगिता बाली.. आईं. उनकी शादी को दो साल हो चुके थे । लेकिन इनकी शादी ज्यादा समय तक नहीं चल पाई । 

इसके बाद उन्होंने अभिनेत्री लीना चंद्रावरकर से शादी करने का प्रस्ताव रखा । लीना चंद्रावरकर को उनके दोस्त संजीव कुमार ने चेतावनी दी थी कि वह किशोर कुमार के साथ ज्यादा दोस्ती न करें । अगर वह मिलनसार होना चाहता है तो उसे उसे अपना भाई बनाना चाहिए । लीना ने जब उससे कारण पूछा तो उसने कहा कि वह उससे शादी करेगी । और ऐसा ही हुआ ।

 किशोर कुमार जीवन में अकेले थे । उनके मित्र अमृतरंजन, हरि निरंजन थे। जिनके साथ वो अक्सर बातें किया करते थे। उनके बारे में यह कहानी बहुत लोकप्रिय हुई क्योंकि .. .. एक बार एक पत्रकार ने उनसे सवाल किया कि वह जीवन में अकेले क्यों थे .. और कभी किसी पार्टी में शामिल क्यों नहीं हुए ।

इस किशोर दा ने जवाब दिया था कि वह पार्टि के लिए गए थे जो उनके घर के लॉन में हुई थी । चौथी शादी से किशोर कुमार को एक बेटा हुआ । उसका नाम सुमित कुमार रखा गया । 

किशोर कुमार के हृदय की समस्या गंभीर होती जा रही थी । उनके गाने बहुत अच्छा कर रहे थे । उनके बेटे अमित कुमार एक प्रसिद्ध पार्श्व गायक बन गए थे । किसी को नहीं पता था कि किशोर कुमार हमेशा के लिए दुनिया छोड़कर चले जाएंगे..

उस वक्त जब वह जीवन में खुश थे और प्यार करते थे. किशोर कुमार ने 13 अक्टूबर को एक पार्टी रखी थी । अशोक कुमार का जन्मदिन 13 अक्टूबर को पड़ता है । यह उनके बड़े भाई के लिए एक सरप्राइज बर्थडे पार्टी थी । फिल्म इंडस्ट्री के लोग उमड़ पड़े..

लेकिन किसी को नहीं पता था कि किशोर कुमार को पहले ही दिल का दौरा पड़ चुका है..और वह हमेशा के लिए दुनिया छोड़कर चले गए थे. अपने अंतिम क्षणों में जब उनकी पत्नी ने डॉक्टर को बुलाना चाहा तो उन्होंने कहा कि अगर कोई डॉक्टर आया तो उन्हें वास्तव में दिल का दौरा पड़ेगा । 

उन्होंने कहा कि वह ठीक हो जाएंगे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ. किशोर दा का निधन हो गया और उसके बाद उनके बड़े भाई… ने कभी उनका जन्मदिन नहीं मनाया । 13 अक्टूबर 1987 वह दिन था जब यह महान गायक जोशीला कलाकार इस दुनिया को हमेशा के लिए छोड़कर चला गया । 

किशोर कुमार के बिना भारतीय फिल्म उद्योग हमेशा अधूरा रहेगा । फिल्म उद्योग को पूरा करने वाले एक कलाकार किशोर कुमार ही हैं । “हमारे करीबी हमेशा दिल के करीब होते हैं ।” 

किशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचयकिशोर कुमार का जीवन परिचय

Sharing Is Caring:

Leave a Comment